Tag Search: “”

Note from the I4I Team: Happy Holidays!

We are now closed for Christmas and New Year, until Monday, 3 January 2022. We would like to thank all our readers and contributors for supporting I4I through the year, and helping us reach over one m...

  • Perspectives

शहरीकरण, लैंगिक और सामाजिक परिवर्तन: महिलाओं की राजनीतिक वरीयताओं को आकार देने में मीडिया की भूमिका

राजनीतिक वरीयताओं को तय करने में सूचना स्रोतों की क्या भूमिका होती है, और किन परिस्थितियों में महिलाएं अपनी राजनीतिक राय बनाने के लिए पुरुषों से अलग संज्ञानात्मक सोच रखती हैं? इसका पता लगाने हेतु, उत्...

  • दृष्टिकोण

Crime in the village: Does road infrastructure make a difference?

Access to better infrastructure is critical for poverty alleviation and economic development in rural India. Analysing data from the 2004-05 and 2011-12 waves of the India Human Development Survey (IH...

  • Articles

Economics and the environment

Published in February 2021 by the UK government, the ‘Dasgupta Review’ calls for changes in how we think, act and measure economic success to protect and enhance our prosperity and the natural world. ...

  • Podcasts

शहरीकरण, लैंगिक और सामाजिक परिवर्तन: अंतर-वैवाहिक पदानुक्रम और कामकाजी माताओं के बारे में धारणाएं

भारत में महिलाएं अवैतनिक घरेलू काम करते हुए अपने परिवार के पुरुषों की तुलना में तीन गुना अधिक समय बिताती हैं, और दोगुना समय बच्चों और आश्रित वयस्कों की देखभाल संबंधी गतिविधियों में बिताती हैं। यह ले...

  • लेख

Economics and the environment

Published in February 2021 by the UK government, the ‘Dasgupta Review’ calls for changes in how we think, act and measure economic success to protect and enhance our prosperity and the natural world....

  • Videos

शहरीकरण, लैंगिक और सामाजिक परिवर्तन: उत्तर भारत में महिलाओं की गतिशीलता

यद्यपि भारत में लैंगिक समानता को बढ़ावा देने वाले संरचनात्मक और सामाजिक परिवर्तन कई मायनों में हुए हैं, महिलाओं की प्रत्यक्ष गतिशीलता अभी भी बहुत कम है। यह लेख, उत्तर भारत के तीन शहरी समूहों के प्राथम...

  • लेख

शहरीकरण, लैंगिक और सामाजिक परिवर्तन: क्या कामकाजी महिलाएं अधिक स्वायत्तता अनुभव करती हैं?

भारत में महिलाओं की कार्य में सीमित भागीदारी न केवल आर्थिक दृष्टि से महत्वपूर्ण है, बल्कि इसका असर उनके कल्याण और सामाजिक स्थिति पर भी होता है। यह लेख, उत्तर भारत के चार शहरी समूहों में किये गए एक घरे...

  • लेख

Estimating changes in India’s workforce during 2011-2018

Prior to the 2017-18 Periodic Labour Force Survey, there was paucity of official, labour-market data since the last nationally representative survey was from 2011, and other surveys in the intervening...

  • Perspectives

शहरीकरण, लैंगिक और सामाजिक परिवर्तन: भारत में महिला श्रम-शक्ति की भागीदारी इतनी कम क्यों है?

भारत में महिलाओं की श्रम-शक्ति में भागीदारी एक जटिल सामाजिक मसला है, जो अन्य बातों के अलावा– पितृ-सत्तात्मक मानदंड, ग्रामीण-शहरी संक्रमण, और मांग एवं आपूर्ति कारकों के बेमेल होने के परिणामस्वरूप उत्पन...

  • लेख

MNREGA funds allocation: Honouring the work-on-demand guarantee

The Centre has sought an additional Rs. 25,000 crore as funding for MNREGA (Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Act). Based on simple calculations using official data, Ashwini Kulkarni ...

  • Perspectives

ई-संगोष्ठी का परिचय: उत्तर भारत में शहरीकरण, लैंगिक और सामाजिक परिवर्तन

भारत में तेजी से हो रहा शहरीकरण लोगों के व्यवहार के प्रचलित सामाजिक और आर्थिक पैटर्न को इस तरह से बदल रहा है कि विद्वान इसे अभी पूरी तरह से नहीं समझ सके हैं। भारत में तेजी से हो रहा यह शहरीकरण कई महत्...

  • लेख