Tag Search: “”

मनरेगा निधि का आवंटन: मांग आधारित काम की गारंटी का भुगतान

केंद्र ने मनरेगा (महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम) के लिए वित्त पोषण हेतु अतिरिक्त राशि के रूप में रुपये 25,000 करोड़ की मांग की है। अश्विनी कुलकर्णी ने आधिकारिक आंकड़ों का उपयोग...

  • लेख

Food insecurity and child malnutrition: New empirical evidence from India

Child malnutrition is among the most pressing public health issues in India today. Equally alarming is the country’s food security crisis. Analysing ‘Young Lives Survey’ data from the states of Andhra...

  • Articles

सहभागी रंगमंच के माध्यम से महिलाओं को सशक्त बनाना

भारत में उनतीस प्रतिशत महिलाओं ने सूचित किया है कि वे अपने जीवन-साथी से हिंसा की शिकार हुई हैं। पश्चिम बंगाल राज्य के 92 गांवों को शामिल कर किये गए एक क्षेत्रीय अध्ययन के आधार पर, यह लेख दर्शाता है कि...

  • लेख

Fatal oblivion: India's National Family Benefit Scheme

The National Family Benefit Scheme (NFBS) – which provides financial assistance to families in the event of the death of a breadwinner – has been plagued by low budget allocations, restricted coverage...

  • Perspectives

Note from the I4I Team: Happy Holidays!

We are now closed for Christmas and New Year, until Monday, 3 January 2022. We would like to thank all our readers and contributors for supporting I4I through the year, and helping us reach over one m...

  • Perspectives

शहरीकरण, लैंगिक और सामाजिक परिवर्तन: महिलाओं की राजनीतिक वरीयताओं को आकार देने में मीडिया की भूमिका

राजनीतिक वरीयताओं को तय करने में सूचना स्रोतों की क्या भूमिका होती है, और किन परिस्थितियों में महिलाएं अपनी राजनीतिक राय बनाने के लिए पुरुषों से अलग संज्ञानात्मक सोच रखती हैं? इसका पता लगाने हेतु, उत्...

  • दृष्टिकोण

Crime in the village: Does road infrastructure make a difference?

Access to better infrastructure is critical for poverty alleviation and economic development in rural India. Analysing data from the 2004-05 and 2011-12 waves of the India Human Development Survey (IH...

  • Articles

Economics and the environment

Published in February 2021 by the UK government, the ‘Dasgupta Review’ calls for changes in how we think, act and measure economic success to protect and enhance our prosperity and the natural world. ...

  • Podcasts

शहरीकरण, लैंगिक और सामाजिक परिवर्तन: अंतर-वैवाहिक पदानुक्रम और कामकाजी माताओं के बारे में धारणाएं

भारत में महिलाएं अवैतनिक घरेलू काम करते हुए अपने परिवार के पुरुषों की तुलना में तीन गुना अधिक समय बिताती हैं, और दोगुना समय बच्चों और आश्रित वयस्कों की देखभाल संबंधी गतिविधियों में बिताती हैं। यह ले...

  • लेख

Economics and the environment

Published in February 2021 by the UK government, the ‘Dasgupta Review’ calls for changes in how we think, act and measure economic success to protect and enhance our prosperity and the natural world....

  • Videos

शहरीकरण, लैंगिक और सामाजिक परिवर्तन: उत्तर भारत में महिलाओं की गतिशीलता

यद्यपि भारत में लैंगिक समानता को बढ़ावा देने वाले संरचनात्मक और सामाजिक परिवर्तन कई मायनों में हुए हैं, महिलाओं की प्रत्यक्ष गतिशीलता अभी भी बहुत कम है। यह लेख, उत्तर भारत के तीन शहरी समूहों के प्राथम...

  • लेख

शहरीकरण, लैंगिक और सामाजिक परिवर्तन: क्या कामकाजी महिलाएं अधिक स्वायत्तता अनुभव करती हैं?

भारत में महिलाओं की कार्य में सीमित भागीदारी न केवल आर्थिक दृष्टि से महत्वपूर्ण है, बल्कि इसका असर उनके कल्याण और सामाजिक स्थिति पर भी होता है। यह लेख, उत्तर भारत के चार शहरी समूहों में किये गए एक घरे...

  • लेख