समष्टि अर्थशास्त्र

कोविड-19 संबन्धित आलेखों का संग्रह

  • Blog Post Date 18 मई, 2020
  • दृष्टिकोण
  • Print Page

हम यहाँ आइडियास फॉर इंडिया (I4I) के कोविड-19 संबंधित हिन्दी विषयवस्तु के लिंक प्रस्तुत करेंगे:

कोविड-पूर्व अर्थव्यवस्था

बैंकिंग संकट का भारत की अर्थव्यवस्था पर असर – राजेश्वरी सेनगुप्ता (इंदिरा गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ डेवलपमेंट रिसर्च), हर्ष वर्धन (बैन एंड कंपनी)

उनसे ज्यादा अंधा कोई और नहीं जो देखना हीं नहीं चाहते – डॉ प्रणव सेन (इंटरनैशनल ग्रोथ सेंटर)

महामारी से निपटना

कोविड-19 से लड़ने के लिए वैश्विक आपूर्ति श्रृंखलाओं का लाभ उठाना - अन्न्वेषा बसु (इंदिरा गांधी विकास अनुसंधान संस्थान ) सी. वीरामणि ( इंदिरा गांधी विकास अनुसंधान संस्थान )

कोविड-19 टीके के बारे में झिझक: राज्यों में समय के साथ रुझान - सोमी रॉय चौधरी, अभिनव मोथेराम, सांतनु प्रमाणिक (नैशनल काउंसिल ऑफ एप्लाइड इकोनॉमिक रिसर्च)

हमें कोविड-19 से लड़ने के लिए एक मार्शल प्‍लान की आवश्यकता है - परीक्षित घोष दिल्ली स्कूल ऑफ इक्नोमिक्स

कोविड-19 के खिलाफ भारत की लड़ाई: एक तुलनात्मक परिप्रेक्ष्य - सरमिष्‍ठा पाल (यूनिवर्सिटी ऑफ सरे), सुगाता घोष (यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रूनेल)

जनसंख्या की आयु संरचना और कोविड-19 - परंतप बसु (डरहम यूनिवर्सिटी), कुणाल सेन (संयुक्त राष्ट्र विश्वविद्यालय-वाइडर, यूनिवर्सिटी ऑफ मैनचेस्टर)

कोविड-19: विपरीत पलायन से उत्‍पन्‍न होने वाले जोखिम को कम करना - अंकिता गुप्ता और हर्ष पारिख (ड्यूक यूनिवरसिटि), कुमार शुभाम (विज़न इंडिया फ़ाउंडेशन)

क्‍या एक व्‍यापक लॉकडाउन का कोई उचित विकल्‍प है? - देबराज रे (न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी), एस. सुब्रमण्यन (स्वतंत्र शोधकरता)

कोविड-19: भारत को प्रभावी रूप से लॉकडाउन से बाहर निकालना - सरमिष्‍ठा पाल (यूनिवर्सिटी ऑफ सरे), सुगाता घोष (यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रूनेल)

राज्य के अग्रिम पंक्ति के कर्मचारी: एक अनदेखा मानव संसाधन - विश्वनाथ गिरिराज (पूर्व आईएएस अधिकारी, महाराष्ट्र बांस संवर्धन फाउंडेशन)

कोविड-19 का केरल प्रबंधन: प्रमुख सीख - एस.एम. विजयानंद (केरल सरकार के पूर्व मुख्य सचिव)

भारत एक क्रियाशील सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रणाली के निर्माण के लिए दुनिया का नेतृत्व कैसे कर सकता है - स्तुति खेमानी (वर्ल्ड बैंक)

बाधित महत्वपूर्ण देखभाल सुविधाएं: कोविड-19 लॉकडाउन और गैर-कोविड मृत्यु दर - पास्कलीन (स्टैनफोर्ड किंग सेंटर के ग्लोबल डेव्लपमेंट), राधिका जैन (स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी)

एक महामारी के दौरान खाद्य और कृषि: प्रभावों का प्रबंधन - सुधा नारायणन (इंदिरा गांधी इंस्टीट्यूट फॉर डेवलपमेंट रिसर्च)

अर्थव्यवस्था पर प्रभाव

क्‍या कोविड-19 के बढ़ते प्रसार में सामाजिक और आर्थिक विविधता मायने रखती है? - उपासक दास (यूनिवर्सिटी ऑफ मानचेस्टर), उदयन राठौड़ (ऑक्सफोर्ड पॉलिसी मैनेजमेंट), प्रसनजित सरखेल (यूनिवर्सिटी ऑफ कल्यानी)

कोविड-19 झटका: अतीत के सीख से वर्तमान का सामना करना – पहला भाग - डॉ प्रणव सेन (इंटरनैशनल ग्रोथ सेंटर) दूसरा भाग | तीसरा भाग | चौथा भाग | पांचवां भाग

कमजोर आबादी और छोटे व्यवसायों पर प्रभाव

 

सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस), राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम और कोविड-19 - रुचिरा बॉस,  देवेश रॉय, सुनील सरोज (अंतर्राष्ट्रीय खाद्य नीति अनुसंधान संस्थान), ममता प्रधान (स्वतंत्र शोधकर्ता)

कोविड -19: क्या मोटापा कोई भूमिका निभाता है? -  अर्चना डांग (आर्थिक विकास संस्थान ), इंद्राणी गुप्ता (आर्थिक विकास संस्थान )

कोविड-19 संकट और खाद्य सुरक्षाज्यां द्रेज़ (रांची विश्वविद्यालय ),अनमोल सोमांची (स्वतंत्र शोधकर्ता)

कोविड-19: समाज के कमजोर वर्ग की सहायता तत्काल कैसे की जा सकती है - रीतिका खेरा (आईआईएम अहमदाबाद)

कोविड-19 लॉकडाउन और प्रवासी श्रमिक: बिहार एवं झारखंड के व्यावसायिक प्रशिक्षुओं का सर्वेक्षण - क्लेमों इम्बर्ट (युनिवेर्सिटी ऑफ वारविक, सेंटर फॉर इकोनॉमिक पॉलिसी रिसर्च, जमील पॉवर्टी एक्शन लैब, ब्यूरो फ़ोर रीसर्च एंड इकनॉमिक अनालिसिस ओफ़ डेवलपमेंट), भास्कर चक्रवर्ती (यूनिवर्सिटी ऑफ़ वारविक), मैक्सिमिलियन लोहर्ट (जे-पाल साउथ एशिया), पूनम पांडा (जे-पाल साउथ एशिया)

भाग II

कोविड-19 के प्रति सरकार की प्रतिक्रियाएँ कितनी देाषपूर्ण रही हैं? प्रवासी संकट का आकलन - सरमिष्‍ठा पाल (यूनिवर्सिटी ऑफ सरे)

कोविड-19 संकट ने शहरी गरीबों को कैसे प्रभावित किया है? - फोन सर्वेक्षण के निष्‍कर्ष - I - फ़रज़ाना अफरीदी (भारतीय सांख्यिकी संस्थान दिल्ली), अमृता ढिल्लों (किंग्स कॉलेज लंदन), संचारी रॉय (किंग्स कॉलेज लंदन)

भाग II

भाग III

कोविड-19: क्या हम लंबी दौड़ के लिए तैयार हैं? - भाग 1 - शोका विस्वविद्यालय के अर्थशास्त्र विभाग के प्राध्यापकों (अभिनाश बोरा, सब्यसाची दास, अपराजिता दासगुप्ता, अश्विनी देशपांडे, कनिका महाजन, भरत रामास्वामी, अनुराधा साहा, अनिशा शर्मा)

भाग 2

भारत में सामाजिक और आर्थिक अनुसंधान के लिए फोन सर्वेक्षण पद्धति - डाएन कॉफी (यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास, ऑस्टिन एवं भारतीय सांख्यिकी संस्थान, दिल्ली), अमित थोराट (जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय), पायल हाथी (यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया, बर्कली), नज़र खालिद (यूनिवर्सिटी ऑफ पेंसिलवेनिया, रिसर्च इंस्टीट्यूट फॉर कंपैशनेट इक्नोमिक्स (राइस)), निधि खुराना (राइस)

कोविड-19 संकट और छोटे व्यवसायों की स्थिति: एक प्राथमिक सर्वेक्षण से निष्कर्ष - शांतनु खन्ना (यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया, इरविन), उदयन राठौर (ऑक्सफोर्ड पॉलिसी मैनेजमेंट, इंडिया)

कोविड-19 और एमएसएमई क्षेत्र: समस्या 'पहचान' की - राधिका पांडे एवं अमृता पिल्लई (नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक फाइनेंस एंड पॉलिसी)

कोविड-19 का राज्य वित्त पर प्रभाव - डॉ प्रणव सेन (इंटरनैशनल ग्रोथ सेंटर)

कोविड-19 राहत: क्या महिला जन धन खाते नकद हस्तांतरण के लिए सही विकल्प हैं? - अनमोल सोमंची (स्वतंत्र शोधकरता)

लोक-स्वास्थ्य कैसे बने राजनीतिक प्राथमिकता - भवेश झा (मरीवाल हेल्थ इनिशिएटिव)

कोविड-19: भारत की झुग्‍गी-बस्तियों में स्वास्थ्य तथा आर्थिक प्रभाव - हार्लन डाउन्स-टेपर, अनिरुद्ध कृष्णा (ड्यूक यूनिवर्सिटी), एमिली रेन्‍स ( लुइसियाना स्टेट यूनिवर्सिटी )

सामाजिक एवं पर्यावरणीय पहलू

कोविड-19: ऑनलाइन कक्षाएं और डिजिटल विभाजन - अभिरूप मुखोपाध्याय (भारतीय सांख्यिकी संस्थान, दिल्ली)

कोविड-19: संकटग्रस्त स्कूली शिक्षा और व्याप्त शैक्षणिक विषमता में अप्रत्याशित वृद्धि - मार्टिन हॉस, अभिषेक आनंद (बिहार शिक्षा नीति संस्थान)

कोविड-19 लॉकडाउन और आपराधिक गतिविधियाँ: बिहार से साक्ष्य - रुबेन पॉबलेट-काज़नैव (यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन) [हिन्दी इन्फोग्राफिक]

कोविड-19: ‘आभासी महामारी’ और महिलाओं के खिलाफ हिंसा - मनीषा शाह (यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया, लॉस एंजिल्स), सरवना रविंद्रन (ली कुआं यू स्कूल ऑफ़ पब्लिक पॉलिसी - नैशनल यूनिवर्सिटी ऑफ़ सिंगापुर) [हिन्दी इन्फोग्राफिक]

कोविड-19: दुनिया को नए विचारों की जरुरत है - प्रेमकुमार मणि (बिहार विधान परिषद के पूर्व सदस्य)

कोविड-19: लॉकडाउन और घरेलू हिंसा - नलिनी गुलाटी (इंटरनैशनल ग्रोथ सेंटर) [हिन्दी इन्फोग्राफिक]

महामारी के वक्त में पक्षपात: कोविड संबंधी अफवाहें और कारखानों में श्रमिक आपूर्ति - अर्कदेव घोष (यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिटिश कोलंबिया) [हिन्दी विडियो]

कोविड-19, जनसंख्या और प्रदूषण: भविष्य के लिए एक कार्ययोजना - ऋषभ महेंद्र (इंटरनैशनल गोर्थ सेंटर, इंडिया), श्वेता गुप्ता (स्वतंत्र शोधकरता)

क्या आपको हमारे पोस्ट पसंद आते हैं? नए पोस्टों की सूचना तुरंत प्राप्त करने के लिए हमारे टेलीग्राम (@I4I_Hindi) चैनल से जुड़ें। इसके अलावा हमारे मासिक समाचार पत्र की सदस्यता प्राप्त करने के लिए दायीं ओर दिए गए फॉर्म को भरें।

No comments yet
Join the conversation
Captcha Captcha Reload

Comments will be held for moderation. Your contact information will not be made public.

समाचार पत्र के लिये पंजीकरण करें