मानव विकास

पर्यावरणीय स्वास्थ्य के लिए सामूहिक कार्रवाई: ग्रामीण भारत में स्वच्छता से साक्ष्य

  • Blog Post Date 10 फ़रवरी, 2021
  • Print Page

भारत में, विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में, बेहतर घरेलू शौचालयों तक की पहुंच और उनका निरंतर उपयोग किया जाना लंबे समय से चुनौती के साथ-साथ एक नीतिगत प्राथमिकता रहा है। घरेलू स्वच्छता विकल्पों को स्‍थापित करने वाले सामाजिक तंत्रों के महत्व को स्वीकारते हुए इस शोध में बिहार और ओडिशा के ग्रामीण इलाकों में प्रयोगात्मक सार्वजनिक वस्तुओं के खेल का उपयोग यह जांचने के लिए किया गया है कि बेहतर स्वच्छता हेतु प्राथमिकताएं निर्धारित करने में लिंग जैसे सामाजिक कारक कितने प्रभावशाली होते हैं।

घरेलू स्तर पर स्वास्थ्य में निवेश, आंशिक रूप से समाज के साथियों के प्रति जिम्मेदारी की भावना से प्रेरित हो सकता है। क्या घरेलू शौचालय जैसी पर्यावरणीय स्वास्थ्य तकनीकों को अपनाने और उनके उपयोग को प्रोत्साहित करने के लिए नीतियां इस प्रेरणा का उपयोग कर सकती हैं? क्या शोध, नीति-कार्यान्वयन में सहायता के लिए 'सामाजिक साथियों' की परिभाषा की पहचान और विस्तार कर सकते हैं?

भारत में, विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में, बेहतर घरेलू शौचालयों तक की पहुंच और उनका निरंतर उपयोग किया जाना लंबे समय से चुनौती के साथ-साथ एक नीतिगत प्राथमिकता रहा है। राष्ट्रीय नीतियों ने ग्रामीण भारत (इंटरनैशनल इंस्टीट्यूट फॉर पॉप्युलेशन साइन्स, 2017) में शौचालयों का फैलाव बढ़ाने में सफलता प्राप्त की है। फिर भी, हाल के अध्ययनों से पता चलता है कि खुले में शौच की समस्‍या अभी भी बनी हुई है (ऑर्गिल-मेयर एवं अन्‍य 2019, स्पीयर्स और थोराट 2019)। हालांकि नीतिगत मूल्यांकन और अकादमिक अध्ययन इस बात पर सहमत हैं कि परिवारों द्वारा निजी शौचालय में निवेश करने और उनका उपयोग करने का निर्णय लेने हेतु उन्‍हें प्रेरित करने में सामाजिक दबाव की भूमिका होने की संभावना है (बेल और ह्यूसो 2013, क्रिस्टाकिस 2015)।

घरेलू स्वच्छता विकल्पों को स्‍थापित करने वाले सामाजिक तंत्रों के महत्व को पहचानते हुए, हम यह जांच करते हैं कि बिहार और ओडिशा के ग्रामीण इलाकों में बेहतर स्वच्छता हेतु प्राथमिकताएं निर्धारित करने में लिंग जैसे सामाजिक कारक कितने प्रभावशाली होते हैं। यह आकलन करने के लिए कि सामूहिक कार्रवाई हेतु प्राथमिकताएँ बेहतर घरेलू स्वच्छता और स्वच्छता विकल्पों में निवेश करने की इच्छा को कैसे सूचित करती हैं, हम प्रयोगात्‍मक खेलों का उपयोग करते हैं।

निजी स्वच्छता विकल्पों के लिए सामूहिक कार्रवाई प्रासंगिक क्यों है?

घरेलू स्वच्छता व्यवहार सार्वजनिक परिणामों के साथ निजी विकल्पों का प्रतिनिधित्व करते हैं। निजी शौचालयों में निवेश करने और उनका उपयोग करने से परिवार अपने आप को मानव अपशिष्ट के माध्यम से फैलने वाले संचारी रोगों जैसे कि दस्त संबंधी बीमारियों (यूनिसेफ और डब्ल्यूएचओ, 2015) आदि से बचाते हैं। शौचालय के अन्‍य गैर-स्वास्थ्य लाभ भी हो सकते हैं जैसे परिवार के सदस्यों की गरिमा, गोपनीयता, सुरक्षा, और स्थिति (पट्टनायक एवं अन्‍य) आदि। मगर परिवार के सदस्‍य बेहतर स्वच्छता में निवेश के सभी लाभों को आत्‍मसात नहीं करते हैं। शौचालयों का उपयोग करने वाले परिवार खुद को संचारी रोगों से पीडि़त होने के जोखिम को कम करके, ऐसी बीमारियों को फैलने से रोकते हैं (पट्टनायक एवं अन्‍य, 2018)। इसके अलावा, खुले में शौच न करके शौचालयों का उपयोग करने वाले परिवार सार्वजनिक स्वास्थ्य वातावरण में मल सामग्री के समग्र बोझ में कमी लाते हैं। दूसरी ओर, जो परिवार खुले में शौच करना जारी रखते हैं वे अपने पड़ोसियों द्वारा बेहतर स्वच्छता में निवेश के परिणामस्वरूप होने वाले सार्वजनिक स्वास्थ्य लाभों का फायदा उठाते हैं।

परस्पर स्वच्छता व्यवहार के जोखिम का यह परिदृश्य या लाभ हमारे प्रयोगात्‍मक खेल हस्तक्षेप (चित्र1) का मुख्य बिंदु था। सार्वजनिक वस्‍तु-शैली के खेल स्वच्छता-संबंधित एक लघु प्रशिक्षण सत्र के साथ शुरू हुए जो घर की स्वच्छता प्रथाओं और स्थानीय सार्वजनिक स्वास्थ्य वातावरण के बीच संबंधों पर केंद्रित थे।

आकृति 1. महिला प्रतिभागियों के समूह को गणनाकार द्वारा निर्देश दिया जा रहा है (बायां पैनल); पुरुष प्रतिभागियों का समूह अपने स्वच्छता योगदान का विकल्प चुन रहा है (दायां पैनल)

प्रशिक्षण के बाद, प्रतिभागी 5-7 के समूह में खेल में शामिल हुए जिसमें उन्हें वास्तविक पुरस्‍कार प्राप्त करने का अवसर मिला। प्रत्येक दौर में उन्‍होंने उन्हें दौर की शुरुआत में दिए गए 35 रुपए के बजट का उपयोग करके निजी योगदान किया। आकृति 2 में दर्शाए गए निजी योगदान उनके द्वारा किए जाने वाले अलग-अलग स्वच्छता और सफाई व्यवहारों से संबंधित होते हैं, और इनकी सीमा कुछ न करने (रु.0 के योगदान के बराबर) से लेकर परिवार के सभी सदस्‍यों द्वारा निजी शौचालय का उपयोग करने (रु. 35 के योगदान के बराबर) तक थी।

आकृति 2. प्रयोगात्मक खेलों के दौरान स्वच्छता निवेश विकल्पों को इंगित करने के लिए उपयोग किया जाने वाला भुगतान कार्ड

टिप्‍पणी: आकृति में भुगतान कार्डों का मूल्यांकन निम्नलिखित स्वच्छता निवेश विकल्पों को दर्शाता है – रु.0 – स्वच्छता/सफाई में कोई निवेश नहीं, रु.5: कभी-कभी साबुन से हाथ धोते हैं, रु.10 – हमेशा साबुन से हाथ धोते हैं, रु.20 – सुनिश्चित करते हैं कि परिवार के बच्चे खुले में शौच न करें, रु.25 – सुनिश्चित करते हैं कि परिवार के सभी सदस्य सार्वजनिक या पड़ोसियों के शौचालय का उपयोग करें, रु.35 – एक निजी घरेलू शौचालय का निर्माण और उपयोग करते हैं।

व्यक्तिगत योगदान को एकत्र किए जाने के बाद समूह के कुल योगदान को मिलाया गया और सभी के साथ साझा किया गया। एक सार्वजनिक वस्‍तुओं के खेल की भावना के अुनरूप यदि समूह का कुल योगदान एक पूर्व-निर्दिष्ट सीमा तक पहुँच जाए, जो हमारे खेल में रु.20 का योगदान था, तो वह यह दर्शाता था कि परिवार के बच्चे शौचालय का उपयोग करते हैं तो परिवारों के पुरस्‍कार को बढ़ा दिया गया। पुरस्‍कार में हुई इस वृद्धि को सभी प्रतिभागियों के बीच समान रूप से बांटा गया था चाहे व्‍यक्तिगत योगदान कुछ भी रहा हो। इस सार्वजनिक पुरस्‍कार के अलावा, प्रतिभागियों को अपने निवेश पर एक छोटा निजी रिटर्न प्राप्त हुआ (सार्वजनिक पुरस्‍कार के विपरीत, यह निजी पुरस्‍कार व्‍यक्तिगत योगदान के अनुसार अलग-अलग था) और साथ ही साथ उन्‍होंने कुछ न कुछ शुरुआती बजट रखा, जिसे उन्होंने घरेलू स्वच्छता में सुधार करने में योगदान-स्‍वरूप नहीं दिया था। बिहार और ओडिशा के 69 गांवों में 1500 से अधिक प्रतिभागियों के साथ कुल लगभग 300 प्रयोगात्‍मक खेल खेले गए।

क्या यह मायने रखता है कि आपके समूह में कौन है और जिसे इस कारण निजी स्वच्छता विकल्पों के सार्वजनिक प्रभावों से लाभ मिल सकता है?

हमारी परियोजना की शुरुआत में समूह रचना को यादृच्छिक किया गया था। आधे खेलों में समूह में सभी पुरुष थे या सभी महिलाएं थीं और दूसरे आधे खेलों में समूह में पुरुष व महिला दोनों थे। लिंग का उपयोग सामाजिक जुड़ाव के माप के रूप में किया गया था क्‍योंकि ग्रामीण भारत के संदर्भ में ऐसे साक्ष्‍य मिलते हैं कि निर्णय लेने के अधिकार, बातचीत के स्तर और स्वच्छता वरीयताएं लिंग के अनुसार अलग-अलग होती हैं (खन्ना और दास 2016, रौत्रा एवं अन्‍य 2017, स्टॉप्ज़िट्ज़की 2016)। यह यादृच्छिक भिन्नता हमें यह तुलना करने की अनुमति देती है कि हमारे प्रयोगात्‍मक खेलों के प्रत्येक दौर में स्वच्छता योगदान समूह रचना से कैसे प्रभावित होता है।

आकृति 3 में समूह रचना द्वारा सार्वजनिक पुरस्‍कार वृद्धि को अनलॉक करने के लिए आवश्यक योगदान सीमा तक पहुंचाने वाले समूहों की हिस्सेदारी को दर्शाया गया है। पहले दौर में हम इस हिस्‍सेदारी में एक बड़ा अंतर देखते हैं। सभी पुरुष या सभी महिलाओं वाले समूहों की तुलना में मिश्रित-लिंग समूहों में सार्वजनिक सीमा तक पहुंचने की संभावना कम है। ये अंतर दूसरे दौर में भी बने हुए हैं हालांकि कम हो गए हैं। तीसरे दौर तक ये अंतर बिल्‍कुल समाप्‍त हो गए हैं। इन रुझानों से पता चलता है कि अपने समान लिंग वाले साथियों के बीच खेलने वाले प्रतिभागी स्वच्छता में योगदान करने के लिए अधिक इच्छुक हैं जो कि निजी और सार्वजनिक लाभों दोनों के साथ अच्छा है। परंतु, जब यह स्पष्ट हो जाता है कि समूह के सदस्य एक सामान्य लक्ष्य को तलाश कर रहे हैं तो समूहों के भीतर विश्वास या सामंजस्य जल्दी से बढ़ सकता है।

आकृति 3. समूह रचना द्वारा सार्वजनिक पुरस्‍कार वृद्धि को अनलॉक करने के लिए आवश्यक योगदान सीमा तक पहुंचने वाले समूहों की हिस्सेदारी लैंगिक स्थिति के अनुसार भिन्न-भिन्‍न अनुभव हो सकते हैं

हमें ऐसे साक्ष्‍य भी मिले हैं जिनसे यह पता चलता है कि समूह की रचना किस हद तक लिंग के आधार पर भिन्न हो सकती है। आकृति 4ए और 4बी में योगदान सीमा तक पहुंचने वाले मिश्रित-लिंग समूहों की हिस्सेदारी की तुलना केवल पुरुषों वाले समूहों (चित्रा 4ए) और केवल महिलाओ वाले समूहों (चित्रा 4बी) की हिस्‍सेदारी के साथ की गई है। हम देखते हैं कि वेज (पच्चर) आकार केवल महिलाओं वाले समूहों द्वारा संचालित है: महिलाओं द्वारा मिश्रित-लिंग व्‍यवस्‍थाओं के बीच खेलने की तुलना में अन्य महिलाओं के साथ खेलने पर उच्च स्तर पर योगदान करने की अधिक संभावना होती है। जबकि यह वेज खेल के दौर में कम हो जाता है, मिश्रित-समूह खेलों में योगदान की बढ़ोतरी इस अंतर की भरपाई करती है।

आकृति 4. योगदान सीमा तक पहुंचने वाले मिश्रित-लिंग समूहों की हिस्सेदारी तथा केवल पुरुषों वाले समूहों (4ए -बायां पैनल) और केवल महिलाओं वाले समूहों (4बी - दायां पैनल) की हिस्सेदारी की तुलना स्वच्छता निवेश को लक्षित करना

  • यदि निजी लाभ के साथ-साथ पड़ोसियों और दोस्तों को होने वाले लाभ पर भी प्रकाश डाला जाए तो स्वच्छता संदेश अधिक प्रभावी हो सकता है। खेल खेलने के दौरान शुरुआत में समूह की रचना स्वच्छता के निवेश को प्रेरित करती हुई दिखाई दी। नीति निर्माण करते समय मौजूदा सामाजिक संरचनाओं का उपयोग करने से सार्वजनिक स्वास्थ्य संदेश देने में लाभ मिल सकता है।
  • परंतु, बार-बार दोहराने से समूह सामंजस्य मजबूत होता है। योजना को केवल एक बार लागू कर देना ही स्थायी व्यवहार परिवर्तन पैदा करने के लिए अपर्याप्‍त हो सकता है। हमारे खेल बताते हैं कि सामान्य लक्ष्यों को प्राप्‍त करने में दोहराव सामाजिक जुड़ाव स्‍थापित कर सकते हैं, जो सार्वजनिक लाभांश के साथ निजी निवेश को प्रेरित कर सकते हैं।

हमारे निष्कर्षों में नीति निर्माताओं के लिए महत्वपूर्ण निहितार्थ हैं:

ग्रामीण समुदायों को पर्यावरणीय और सार्वजनिक स्वास्थ्य चुनौतियों का सामना करना पड़ता है जिन्हें केवल घरेलू स्तर पर स्वास्थ्य सुधार के लिए सामूहिक प्रतिबद्धता के माध्यम से ही हल किया जा सकता है। प्रयोगात्‍मक खेल, जिन्‍हें बिहार और ओडिशा में स्वच्छता वातावरण में हमारे अध्ययन के अंतर्गत कार्यान्वित किया गया था, इस बात की जानकारी दे सकते हैं कि घरों में बेहतर स्वच्छता के लिए प्राथमिकताएं कैसे तय होती हैं और ये प्राथमिकताएं समय के साथ उनके स्वच्छता निवेश को किस प्रकार बयां करतीं हैं।

क्या आपको हमारे पोस्ट पसंद आते हैं? नए पोस्टों की सूचना तुरंत प्राप्त करने के लिए हमारे टेलीग्राम (@I4I_Hindi) चैनल से जुड़ें। इसके अलावा हमारे मासिक समाचार पत्र की सदस्यता प्राप्त करने के लिए दायीं ओर दिए गए फॉर्म को भरें।

लेखक परिचय: एमिली पख्तिजियन पेन स्टेट यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ पब्लिक पॉलिसी में एक असिस्टेंट प्रोफेसर के साथ-साथ जेफरी एल एंड शेरोन डी हाइड-मैककोर्टनी कैरियर डेवलपमेंट प्रोफेसर हैं। सुभ्रेंदु पट्टनायक ड्यूक यूनिवर्सिटी के सैनफोर्ड स्कूल ऑफ पब्लिक पॉलिसी में पर्यावरण और ऊर्जा नीति के ओक फाउंडेशन प्रतिष्ठित प्रोफेसर हैं।

No comments yet
Join the conversation
Captcha Captcha Reload

Comments will be held for moderation. Your contact information will not be made public.

संबंधित विषयवस्तु

समाचार पत्र के लिये पंजीकरण करें